Kaash Lyrics – The Zoya Factor

Kaash Lyrics – The Zoya Factor: “Tu agar Kaash samajh paaye” song is picturised on Sonam Kapoor and Dulquer Salmaan and sung by Arijit Singh and Alyssa Mendonsa. Amitabh Bhattacharya writes lyrics of the “Kaash” song and composed by Shankar-Ehsaan-Loy.

Movie: The Zoya Factor
Song: Pepsi Ki Kasam
Singer: Arijit Singh, Alyssa Mendonsa
Lyricist: Amitabh Bhattacharya
Composer: Shankar-Ehsaan-Loy
Cast: Sonam Kapoor, Dulquer Salmaan
Music on: Zee Music Company

Kaash Lyrics – The Zoya Factor

Meherbaani hai taqdeeron ki
Jo teri meri raahein yun aa ke mili hai

Hai ye kahaani unn laqeeron ki
Jo tere mere haathon ki jud rahi hain

Ik rait ka sehra hoon main
Baarish ki fiza hai tu
Aadha likha ek khat hoon main
Aur khat ka pata hai tu

Tu agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu…

Agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Wo o…

Na tha mujhe pataa
Na thi tujhe khabar
Ki iss kadar qareeb aayenge
Bhale hi der se milenge magar
Likha ke yun naseeb laayenge

Khushnaseebi hai meri aankhon ki
Jo tera sapna raaton ko dekhti hai

Khushmijaazi hai meri baahon ki
Teri haraarat se khudko sekti hai

Main raat hoon aur chaand ki
Soorat ki tarah hai tu
Lag ki nahi jo chhoot’ti
Aadat ki tarah hai tu

Tu agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu

Tu agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Agar Kaash samajh paaye
Mere liye kya hai tu
Wo o…

Kaash Lyrics In Hindi – The Zoya Factor

महरबानी है तक़दीरों की
जो तेरी मेरी राहें यूँ आ के मिली है

है ये कहानी उन लक़ीरों की
जो तेरे मेरे हाथों की जुड़ रही हैं

इक रेत का सहरा हूँ मैं
बारिश की फ़िज़ा है तू
आधा लिखा एक ख़त हूँ मैं
और ख़त का पता है तू

तू अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू…

अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
वो ओ…

ना था मुझे पता
ना थी तुझे खबर
की इस क़दर क़रीब आएँगे
भले ही देर से मिलेंगे मगर
लिखा के यूँ नसीब लाएँगे

ख़ुशनसीबी है मेरी आँखों की
जो तेरा सपना रातों को देखती है

खुशमिजाज़ी है मेरी बाहों की
तेरी हरारत से खुदको सेकती है

मैं रात हूँ और चाँद की
सूरत की तरह है तू
लग की नही जो छूटती
आदत की तरह है तू

तू अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू

तू अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
अगर काश समझ पाए
मेरे लिए क्या है तू
वो ओ…

Kaash Video Song

 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.