Kyun Lyrics – Shahid Mallya

Kyun Lyrics – Shahid Mallya: “Tumse hi hai pyaar kyun” song is picturised on Manjul Khattar and Rits Badiani and sung by Shahid Mallya. Aarvi, Samir Gwalia and Surya Samudra writes lyrics of “Kyun” song composed by Shourya Kumar Lal.

Song: Kyun
Singer: Shahid Mallya
Lyricist: Aarvi, Samir Gwalia, Surya Samudra
Composer: Shourya Kumar Lal
Cast: Manjul Khattar, Rits Badiani
Music on: Tatv Aarvi Films & Music

Kyun Lyrics – Shahid Mallya

Tumse hi hai pyaar kyun
Koi ye samjhaaye
Har ghadi tera intezar kyun
Ishq agar Khuda ne likha hai toh batlao
Isme itna hai khaar kyun

Hum saath jeeyenge
Sang khaai jo kasmein
Badal hi denge hum
Duniya ki rasmein

Nazron se sabki chup chup ke milna
Namm aankhon se phir alvida kehna

Guzra bhi un raahon se
Waadon se jo thi judi
Hmm.. Guzra bhi un raahon se
Waadon se jo thi judi

Khoye hai hum un khawbon mein
Jo hain adhoore pade

Yun tujhse bichhad ke
Mohabbat badh gayi hai
Hai yaqeen mere liye
Tu Khuda se lad rahi hai

Kaandhe pe mere jab tera sar tha
Haseen thi duniya, rangeen shehar tha
Ye humara milna ittefaaq nahi hai
Marzi hai Khuda ki mazaak nahi hai

Rab ne joda hai phir sahe kyun sitam
Agar ishq Khuda hai phir kyun bichde hum

Kyun Lyrics In Hindi – Shahid Mallya

तुमसे ही है प्यार क्यूँ
कोई ये समझाए
हर घड़ी तेरा इंतेज़ार क्यूँ
इश्क़ अगर खुदा ने लिखा है तो बतलाओ
इसमे इतना है ख़ार क्यूँ

हम साथ जीएँगे
संग खाई जो कस्में
बदल ही देंगे हम
दुनिया की रस्में

नज़रों से सबकी चुप चुप के मिलना
नम आँखों से फिर अलविदा कहना

गुज़रा भी उन राहों से
वादों से जो थीं जुड़ी
ह्म.. गुज़रा भी उन राहों से
वादों से जो थीं जुड़ी

खोए हैं हम उन ख़्वाबों में
जो हैं अधूरे पड़े

यूँ तुझसे बिछड़ के
मोहब्बत बढ़ गयी है
है यक़ीन मेरे लिए
तू खुदा से लड़ रही है

काँधे पे मेरे जब तेरा सर था
हसीन थी दुनिया, रंगीन शहर था
ये हुमारा मिलना इत्तेफ़ाक़ नही है
मर्ज़ी है खुदा की मज़ाक नही है

रब ने जोड़ा है फिर सहे क्यूँ सितम
अगर इश्क़ खुदा है फिर क्यूँ बिछड़े हम

Kyun Video Song

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.